Explore Mantras

वास्तु मंत्र

वास्तु दोष का मतलब घर, कार्यालय या किसी अन्य प्रकार के परिसर में मौजूद कमी है जो नकारात्मक और विनाशकारी ऊर्जाओं को आकर्षित करता है, जिससे स्थान की सद्भाव और शांति भंग होती है

पंच महाभूत अर्थात् पृथ्वी, जल, अग्नि, वायु और अंतरिक्ष की ऊर्जा के निर्देशों और प्रवाह से संबंधित नियमों के गैर अनुपालन और निर्माण में त्रुटियां वास्तु दोष को जन्म देती हैं। वास्तु दोष को वास्तु मंत्र के नियमित जप द्वारा दूर किया जा सकता है। वास्तु मंत्र नकारात्मक ऊर्जाओं से मुक्ति पाने और परिसर में शुभता को आमंत्रित करने में सहायता करता है।

वास्तु मंत्र के लिए प्रयोग की जाने वाली जप माला

तुलसी माला

वास्तु मंत्र के लिए प्रयोग किए जाने वाले फूल

पीत पुष्प, पीत वस्त्र, पीत आसन

वास्तु मंत्र के लिए कुल जप संख्या

5,40,000 या 12,50,000 बार

वास्तु मंत्र जप का श्रेष्ठ समय या मुहूर्त

वास्तु शांति मुहूर्त

वास्तु मंत्र के इष्ट

वास्तु मंत्र के देवता वास्तु पुरुष या कालपुरुष हैं। वास्तु पुरुष का तात्पर्य किसी स्थान की आत्मा या ऊर्जा से है। वास्तु पुरुष किसी भी आधार का संरक्षक देवता है। वास्तु पुरुष औंधे स्थिति में पृथ्वी पर सिर रखे हुए हैं । उनका पैर दक्षिण-पश्चिम दिशा में इंगित करता है; जबकि सिर उत्तर-पूर्व में है; उनके बाएं और दाएं हाथ क्रमशः दक्षिण-पूर्व और उत्तर-पश्चिम दिशाओं में स्थित हैं। वास्तु पुरुष का पेट क्षेत्र ब्रह्मांड के निर्माता ब्रम्हा का निवास है ।

वास्तु मंत्र के लाभ

वास्तु मंत्र का जप पाप ग्रहों को शांत करता है, शुभ ग्रहों को प्रबल करता है, नकारात्मक ऊर्जाओं को दूर करता है और समृद्धि प्रदान करता है। वास्तु मंत्र स्थान के रहने वालों को धन, स्वास्थ्य और मन की शांति का आशीर्वाद देता है। वास्तु मंत्र परिसर में शांति, सुरक्षा और सुख की आभा उत्पन्न करता है। वास्तु मंत्र का पाठ आवासीय और व्यावसायिक स्थानों का पाप आत्माओं, काले जादू और नकारात्मक शक्तियों से रक्षा करता है। वास्तु मंत्र में तनाव को दूर करने और परिसर के वातावरण को शुद्ध करने की शक्ति है। वास्तु मंत्र के मात्र जाप से शक्तिशाली और सकारात्मक शक्ति उत्पन्न होती है और प्रकृति की ऊर्जा के साथ एक शुभ आभा उत्पन्न होती है।

वास्तु वैदिक मंत्र (वास्तु पुरुष मंत्र)

वास्तु वैदिक मंत्र (वास्तु पुरुष मंत्र)

नमस्ते वास्तु पुरुषाय भूशय्या भिरत प्रभो | मद्गृहं धन धान्यादि समृद्धं कुरु सर्वदा ||

वास्तु वैदिक मंत्र (वास्तु पुरुष मंत्र) सुने

वास्तु दोष निवारण मंत्र

यह वास्तु दोष निवारण मंत्र के रूप में जाना जाता है। वास्तु दोष निवारण मंत्र वास्तु दोष को दूर करता है,इसका उपयोग हवन करने के लिए भी किया जाता है।

ॐ वास्तोष्पते प्रति जानीद्यस्मान स्वावेशो अनमी वो भवान यत्वे महे प्रतितन्नो जुषस्व शन्नो भव द्विपदे शं चतुष्प्दे स्वाहा |

वास्तु दोष निवारण मंत्र सुने

वास्तु दोष निवारण मंत्र -2

ॐ वास्तोष्पते प्रतरणो न एधि गयस्फानो गोभि रश्वे भिरिदो अजरासस्ते सख्ये स्याम पितेव पुत्रान्प्रतिन्नो जुषस्य शन्नो भव द्विपदे शं चतुष्प्दे स्वाहा |

वास्तु दोष निवारण मंत्र -2 सुने

वास्तु दोष निवारण मंत्र -3

ॐ वास्तोष्पते शग्मया स र्ठ(ग्वग्) सदाते सक्षीम हिरण्यया गातु मन्धा । चहिक्षेम उतयोगे वरन्नो यूयं पातस्वस्तिभिः सदानः स्वाहा । अमि वहा वास्तोष्पते विश्वारूपाशया विशन् सखा सुशेव एधिन स्वाहा ।

वास्तु दोष निवारण मंत्र -3 सुने

वास्तु दोष निवारण मंत्र - 4

ॐ वास्तोष्पते ध्रुवास्थूणां सनं सौभ्या नां द्रप्सो भेत्ता पुरां शाश्वती ना मिन्क्षे मुनीनां सखा स्वाहा |

वास्तु दोष निवारण मंत्र - 4 सुने

Get your free personalised astrology life report now

Join over 5 lakh + Vedic Rishi members

Access Now

Note: * This report is free for a limited period of time

Offers ends in :

वैदिक ऋषि के बारे में

वैदिक ऋषि एक एस्ट्रो-टेक कंपनी है जिसका उद्देश्य लोगों को वैदिक ज्योतिष को प्रौद्योगिकी तरीके से पेश करना है।